Kumbh Mela 2019: दिव्य कुंभ के भव्य इंतजाम

अब से कुछ ही दिनों के बाद प्रयागराज में दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक मेला लगने वाला है जहां आस्था की डुबकी लगाने के लिए करोड़ों लोग पहुंचेंगे. जितना खास ये कुंभ होगा. उतनी ही खास इसकी तैयारियां भी हैं. आइए आपको बताते हैं अर्ध कुंभ की कुछ खास बातें क्योंकि इस बार प्रयागराज कुंभ 2019 दिव्य और भव्य होने के साथ-साथ आलौकिक और अद्भुत भी है.

कहा जाता है कि जीवन में कम से कम एक बार तो जरूर कुंभ मेले में जाना चाहिए. कुंभ स्नान करना और यहां की भव्यता और अस्थाई सांसारिक दुनिया को देखना भर अपने आप में एक अद्भुत संयोग होता है. देश के कोने-कोने से ही नहीं विदेशों से भी यहां लोग आते हैं.

कुम्भ का आकर्षण

kumbh mela 2019 programme
(Image credit: kumbh.gov.in)

कुंभ का प्रमुख आकर्षण का केंद्र 13 अखाड़ों के साधु-संत होते है. इस बार दो अखाड़े और जुड़ गए हैं– किन्नर अखाड़ा और महिला नागा साधु अखाड़ा.

अखाड़ों और उनकी पेश्वाई की रौनक देखते ही बनती है. पेशवाई में सोने-चांदी के सिंहासनों पर विराजमान साधु-संत अपनी टोलियों के साथ प्रदर्शन करते हुए कुंभ पहुंचते हैं. बता दें कि प्रशासन अखाड़ों से संगम तक संतों के लिए एक विशेष राजपथ बनाता है, जिस पर सिर्फ अखाड़े ही चल सकते हैं.

कुम्भ का पहला स्नान

kumbh snan
(Image credits: kumbh.gov.in)

कुंभ का पहला स्नान संधू सन्यासी करते हैं, इसे शाही स्नान कहते हैं और इसके बाद आम लोगों को स्नान की अनुमति मिलती है.शाही स्नान भोर में 3 बजे से ही शुरु हो जाता है.

कार्यक्रम

kumbh ferry service
(Image credits: kumbh.gov.in)

कुंभ में इस बार देश-विदेश की रामलीलाओं की भी प्रस्तुति होगी. ये पहली बार होने जा रहा है. इस बार यहां पर देश की सांस्कृतिक विरासत भी देखने को मिलेगी. मेले में पांच विशाल सांस्कृतिक पंडाल बनाए गए हैं.

हेलीकॉप्टर और क्रूज की सवारी इस बार कुंभ मेले को और खास बना रही है. सस्ती दरों पर ये सुविधाएं पर्यटकों को दी जाएंगी. तो अगर आप भी कुंभ की तस्वीरें अपने कैमरे में कैद करना चाहते हैं, तो ये मौका आपके लिए है.

Kumbh programmes
(Image credits: kumbh.gov.in)

अगर आपको भी घाट के पास सूरज को दूबते देखना रोमांच से भर देता है तो आप जलमार्ग से फेरी सेवाओं का आनंद लेते हुए उस अहसास हो और करीब से जी सकते हैं.

श्रद्धालुओं के लिए टेंट

kumbh mela tent
(Image credits: kumbh.gov.in)

यहां सस्ते से सस्ता और महंगे से महंगा टेंट हाउस उपलब्ध है. कुंभ में करोड़पति और गरीब, हर तबके के लोग आते हैं. स्नान कर ईश्वर को खुद को और करीब पाने की इच्छा आपकी भी है. तो यहां पर आपके लिए 900 स्क्वॉयर फीट में फैला करीब 35 हजार का इंद्रप्रस्थम का सबसे खास टेंट हाउस भी उपलब्ध है.

ये किसी पांच सितारा होटल से कम नहीं है. इसमें दो बेडरूम और एक लिविंग रूम के साथ ही गृहस्थी का सारा सामान भी है. वैदिक टेंट सिटी में 24 हजार प्रति रात की दर पर प्रीमियम विला भी दिए जा रहे हैं. इसके अलावा लग्जरी टेंट की कीमत 19 हजार और 15 हजार रुपये तक है.

kumbh mela 2019 tent
(Image credits: kumbh.gov.in)

बता दें की यहां पर 1200 टेंट लगाए गए हैं जहां त्रिवेणी संगम का नजारा देखने को मिलेगा. वहीं कल्प वृक्ष टेंट सिटी में आप 3500 से 8500 रुपये की दर से आप टेंट बुक करा सकते हैं.

और अगर ये वीआईपी टेंट मेरी तरह आपके लिए भी बजट से बाहर है. तो हमारे आपके लिए भी यहां पर बजट में रहने की सुविधा उपलब्ध है. सबसे सस्ते टेंट 650 रुपये प्रति दिन के हिसाब से मिल रहा है.

kumbh mela tent
(Image credits: kumbh.gov.in)

कुंभ मेला सिर्फ भगवान की उपासना का विशेष अवसर नहीं देता बल्कि तकरीबन 70 लाख लोगों को रोज़गार के अवसर भी उपलब्ध कराता है. यहां छोटे से बड़े लोग हर तरह से व्यवसाय करते हैं.

एक और खास बात आपको बता दें, कुंभ मेले को यूनेस्कों की मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की प्रतिनिधि सूची में शामिल किया गया है.